Saturday, August 4, 2012

पथराई आँखों में अब ख्वाब तैरते नहीं
उसके आने की राह अब और देखते नहीं!