Saturday, February 18, 2017

धूप

एक ज़रा सी धूप मेरे घर भी भेजना,
सूना है सूरज आजकल तुम्हारे घर से निकलता है,..

No comments:

Post a Comment